How to Prepare for CBSE (UGC) NET JRF New Pattern

New Pattern

Paper-1 (General Paper On Teaching And Research Aptitude)




This paper includes:

Teaching aptitude, Research aptitude, Reading Comprehension, Communication, Information and communication Technology, Reasoning, Logical Reasoning, Data Interpretation, Polity and Governance, People environment.

Paper 2 

(Now only one paper will be there Previously Two paper were held. It will be consisting of 100 questions carrying 1 mark each) 

These are the papers which are as per Master’s or PG Degree.

syllabus (UGC) NET Paper 2

Examination Schedule: National Eligibility Test (NET): All questions are MCQ based.



Session Paper Marks Number of Question Duration
First I 100 60 out of which 50  question to be attempted 1¼ Hours (09:30 A.M. to 10:45 A.M.) IST
Second II 100 100 questions all are  compulsory 1¼ Hours (11:15 A.M. to 12:30 P.M.) IST
For Complete UGC NET Management/HRM/Commerce Notes/Guidance after contributing some amount, Please contact at 9990919804/9718575396 email at 1985sac@gmail.com or studyalarm@yahoo.in

BPE की जगह BPES की डिग्री UGC

download (1)

फिजिकल एजुकेशन के स्टूडेंट्स के लिए यूजीसी का फरमान। डिपार्टमेंट से अब बीपीई और एमपीई की डिग्री नहीं मिलेगी। इनके स्थान पर बीपीईएस और एमपीईएस की डिग्री दी जाएगी। हाल ही में यूजीसी ने सभी विश्वविद्यालयों को पत्र जारी कर बैचलर और मास्टर्स कोर्स की इन डिग्रियों के नामों में संशोधन किया है।



दरअसल, अब तक फिजिकल एजुकेशन डिपार्टमेंट में बीपीई (बैचलर ऑफ फिजिकल एजुकेशन) और एमपीई (मास्टर्स ऑफ फिजिकल एजुकेशन) के नाम से डिग्री दी जाती थी। कुछ समय पहले मांग उठी थी कि इन डिग्रियों के नामों में संशोधन किया जाए। इसमें कहीं न कहीं स्पोर्ट्स का नाम जोड़ा जाए।

लंबे अरसे बाद यूजीसी ने इसके नामों में संशोधन कर दिया है। अब बीपीई के स्थान पर बैचलर ऑफ फिजिकल एजुकेशन एंड स्पोर्ट्स और एमपीई के स्थान पर मास्टर्स ऑफ फिजिकल एजुकेशन एंड स्पोर्ट्स की डिग्री दी जाएगी। नए सत्र से ही यह लागू होगा।

बता दें कि बीपीईएस की तीन वर्षीय डिग्री के लिए 12वीं के बाद प्रवेश लिया जा सकता है। जबकि एमपीईएस की डिग्री दो वर्ष की होगी।

IIT-JEE एग्जाम पैटर्न पर किए बड़े फैसले

इंजीनियरिंग में कोचिंग सिस्टम के खिलाफ स्मृति ने कहा कि आईआईटी में ज्‍वांइट एंट्रेंस टेस्‍ट  का प्रश्नपत्र 12वीं के पाठ्यक्रम के अनुरूप ही रखा जाएगा.  आईआईटी की परीक्षा में कई बार कुछ प्रश्न 12वीं के स्तर से ऊपर के होते हैं लिहाजा यह सुनिश्चित किया जाएगा कि भविष्य में ऐसा न हो.

छात्रों की मदद के लिए जेईई के पिछले 50 सालों के प्रश्नपत्र उत्तर समेत जारी होंगे. ‘आईआईटीपाल’ नाम का पोर्टल और एप लांच होगा जिस पर ये उपलब्ध होंगे. एप पर आईआईटी के सर्वश्रेष्ठ शिक्षकों के वीडियो और ऑडियो लेक्चर भी उपलब्ध होंगे.