BPE की जगह BPES की डिग्री UGC

download (1)

फिजिकल एजुकेशन के स्टूडेंट्स के लिए यूजीसी का फरमान। डिपार्टमेंट से अब बीपीई और एमपीई की डिग्री नहीं मिलेगी। इनके स्थान पर बीपीईएस और एमपीईएस की डिग्री दी जाएगी। हाल ही में यूजीसी ने सभी विश्वविद्यालयों को पत्र जारी कर बैचलर और मास्टर्स कोर्स की इन डिग्रियों के नामों में संशोधन किया है।



दरअसल, अब तक फिजिकल एजुकेशन डिपार्टमेंट में बीपीई (बैचलर ऑफ फिजिकल एजुकेशन) और एमपीई (मास्टर्स ऑफ फिजिकल एजुकेशन) के नाम से डिग्री दी जाती थी। कुछ समय पहले मांग उठी थी कि इन डिग्रियों के नामों में संशोधन किया जाए। इसमें कहीं न कहीं स्पोर्ट्स का नाम जोड़ा जाए।

लंबे अरसे बाद यूजीसी ने इसके नामों में संशोधन कर दिया है। अब बीपीई के स्थान पर बैचलर ऑफ फिजिकल एजुकेशन एंड स्पोर्ट्स और एमपीई के स्थान पर मास्टर्स ऑफ फिजिकल एजुकेशन एंड स्पोर्ट्स की डिग्री दी जाएगी। नए सत्र से ही यह लागू होगा।

बता दें कि बीपीईएस की तीन वर्षीय डिग्री के लिए 12वीं के बाद प्रवेश लिया जा सकता है। जबकि एमपीईएस की डिग्री दो वर्ष की होगी।

IIT-JEE एग्जाम पैटर्न पर किए बड़े फैसले

इंजीनियरिंग में कोचिंग सिस्टम के खिलाफ स्मृति ने कहा कि आईआईटी में ज्‍वांइट एंट्रेंस टेस्‍ट  का प्रश्नपत्र 12वीं के पाठ्यक्रम के अनुरूप ही रखा जाएगा.  आईआईटी की परीक्षा में कई बार कुछ प्रश्न 12वीं के स्तर से ऊपर के होते हैं लिहाजा यह सुनिश्चित किया जाएगा कि भविष्य में ऐसा न हो.

छात्रों की मदद के लिए जेईई के पिछले 50 सालों के प्रश्नपत्र उत्तर समेत जारी होंगे. ‘आईआईटीपाल’ नाम का पोर्टल और एप लांच होगा जिस पर ये उपलब्ध होंगे. एप पर आईआईटी के सर्वश्रेष्ठ शिक्षकों के वीडियो और ऑडियो लेक्चर भी उपलब्ध होंगे.

 

कैसे करें बैंक पीओ की तैयारी

करियर कीदृष्टि से बैंक पीओ युवाओं के लिए बेहतर पद है अनुभव और कार्यकुशलता से कई युवा बैंक पीओ के रूप में अपना करियर बनाना चाहते हैं, पर मार्गदर्शन और सही जानकारी के अभाव में वे इस परीक्षा में शामिल नहीं हो पाते।सरकारी और गैर सरकारी बैंक पीओ के पद के लिए समय-समय पर बड़ी संख्या में भर्तियां निकलती रहती हैं।

आइए जानते हैं क्या होता है बैंक पीओ पद। क्या योग्यता होनी चाहिए। कैसा होता है परीक्षा का प्रारूप। कैसे होते हैं प्रश्न पत्र। कैसे करें बैंक पीओ की परीक्षा में सफल होने के लिए तैयारी।

उम्र-  21 से 30 वर्ष तक की आयु सीमा निर्धारित है।

शैक्षणिक योग्यता- बैंक पीओ के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता स्नातक डिग्री है।




परीक्षा एवं चयन प्रक्रिया का प्रारूप– चयन प्रक्रिया दो चरणों में होती है। पहले चरण में लिखित परीक्षा होती है। इसके प्रश्न पत्र हिन्दी और अंग्रेजी में होते हैं। इस परीक्षा में सामान्य ज्ञान और हिन्दी अंग्रेजी से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं।

इस परीक्षा को पास करने के बाद दूसरे चरण में प्रतिभागी को सामान्य ज्ञान, हिन्दी, अंग्रेजी और गणित के विषयों के 225 प्रश्न होते हैं, जिनके लिए दो घंटे, पंद्रह मिनट का समय दिया जाता है। दोनों परीक्षाओं को पास करने के बाद इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है।

परीक्षा में क्या रखें ध्यान- पेपर में प्रश्न ऑब्जेक्टिव होते हैं। बीच-बीच में कई प्रश्न ऐसे दिए जाते हैं, जिनसे प्रतिभागी को दुविधा हो। पेपर हल में इस बात का ध्यान रखें कि जो प्रश्न आपको सरल लगे, उन्हें हल करें। कठिन प्रश्नों को बचे हुए समय में हल करने का प्रयास करें। गणित में दसवीं के प्रश्नों का हल होता है।

कैसे करें तैयारी- बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर परीक्षा में सफलता के लिए ऑब्जेक्टिव एक्जाम, समूह चर्चा और इंटरव्यू के लिए समुचित तैयारी जरूरी है। विभिन्न प्रकार के प्रश्नों की तैयारी के लिए अच्छे से अच्छे संदर्भ, पिछले वर्षों के हल प्रश्नपत्र और प्रतियोगी परीक्षाओं की मासिक पत्रिका की मदद लें।




सामान्य ज्ञान की तैयारी के लिए नियमित न्यूज पेपर पढ़ें। अंग्रेजी की तैयारी के लिए ग्रामर बुक्स पढ़ें। कक्षा छठवीं से 10वीं तक की एनसीईआरटी की गणितकी किताबों से तैयारी की जा सकती है।