Subject

NCERT Solutions for Class 6th Science Chapter 5 पदार्थों का पृथक्करण

NCERT Solutions for Class 6th Science Chapter 5 पदार्थों का पृथक्करण

Class 6th Science chapter 5 पदार्थों का पृथक्करण – हर साल हजारों विद्यार्थी छठी की परीक्षा देते हैं, लेकिन बहुत से विद्यार्थी अच्छे अंक नहीं पाते, जिससे उन्हें आगे की पढ़ाई करने में भी मुश्किल होती है।यहां पर NCERT कक्षा 6 का विज्ञान अध्याय 5, पदार्थों का पृथक्करण समाधान दिया गया है। NCERT Solutions for Class 6th Science chapter 5 Padartho Ka Prithakkaran आसन भाषा में दिया गया है। ताकि विद्यार्थी को पढ़ने में कोई परेशानी न हो। इसकी मदद से आप परीक्षा में अच्छे अंक पा सकते हैं। इसलिए निचे आपको Class 6th Science Chapter 5 पदार्थों का पृथक्करण पढ़े।

अभ्यास के प्रश्नों के उत्तर

प्रश्न 1. किसी मिश्रण के अलग-अलग घटकों को अलग करने की आवश्यकता क्यों होती है? आप दो उदाहरण लिखें।

उत्तर: किसी पदार्थ का उपयोग करने से पहले हानिकारक और उपयोगी पदार्थों को मिश्रित करना चाहिए। कभी-कभी हम उपयोगी पदार्थों को अलग से उपयोग करते हैं।

उदाहरण के लिए, चाय बनाते समय द्रव को चाय की पत्तियों से अलग करने के लिए चालन या छलनी का उपयोग किया जाता है। मंथन दही से मक्खन को अलग करता है।

प्रश्न 2. निष्पावन क्या है? यह कहाँ काम करता है?

उत्तर: निष्पावन एक प्रक्रिया है जिसमें वायु भूसे से गेहूं के दाने को अलग करती है। निष्पावन विधि अनाज से भूसा निकालता है। निष्पावन करते समय भारी अन्न कण अलग होकर निकट एक ढेर बनाते हैं, जबकि हल्के भूसे के कण पवन में उड़ कर दूर गिरते हैं। निष्पावन एक मिश्रण के अवयवों को इस तरह अलग करने का प्रकार है।

प्रश्न 3. दालों को पकाने से पहले भूसे से धूल के कणों को कैसे अलग करेंगे?

उत्तर: हस्तचयन विधि का उपयोग करके हम पत्थर, भूसा, गेहूं, चावल और दालों से बड़े मिट्टी के कणों को अलग कर सकते हैं।

प्रश्न 4. छालन का उद्देश्य क्या है? कहाँ इसका उपयोग होता है?

उत्तर- छालन भिन्न-भिन्न आकार के मिश्रण के घटकों को अलग करने की एक प्रक्रिया है, जिसमें एक विशिष्ट आकार के कणों को छननी के छोटे-छोटे छेदों से अलग किया जाता है, जबकि बड़े कण छननी में ही रहते हैं।

इसका उपयोग निम्नलिखित मिश्रण के घटकों को अलग करने के लिए किया जाता है

(i) चोकर को आटे से अलग करने के लिए; (ii) चाय के टुकड़े को चाय से अलग करने के लिए

प्रश्न 5. रेत और जल के मिश्रण से रेत को कैसे अलग करेंगे?

उत्तर: रेत और जल के मिश्रण को निस्तारण विधि से अलग करने के लिए, बर्तन के तली में रेत का भारी कण बैठता है इसे अवसादन प्रक्रिया कहते हैं।हल्का पानी ऊपर रह जाता है, जो निस्तारण प्रक्रिया से अलग हो जाता है। पानी को अधिक साफ करने के लिए फ़िल्टर पेपर से छान सकते हैं

प्रश्न 6. क्या आटे और चीनी के मिश्रण में से चीनी को अलग करना संभव है? अगर ऐसा है, तो आप इसे कैसे पूरा करेंगे?

उत्तर: हाँ, चीनी और आटे के मिश्रण को अलग किया जा सकता है। चालन विधि आटे और चीनी के मिश्रण को अलग कर सकती है।

प्रश्न 7. पंकिल जल के किसी नमूने से शुद्ध जल कैसे प्राप्त किया जाएगा?

उत्तर: एक गिलास में पंकिल जल का एक नमूना डालकर आधा घंटा बिना हिलाये रहने दें। बाद में भारी मिट्टी के कण गिलास की तली में बैठ जाते हैं। अब जल को हिलाए बिना गिलास को थोड़ा नीचे कीजिए। उस गिलास से जल को दूसरे गिलास में डाल दिया। इस प्रक्रिया का नाम निस्तारण है।यदि गिलास का जल अब भी पंकिल या भूरे रंग का है, तो इसे निकाल दें। पंकिल जल को निस्यंदन करने के लिए फिल्टर पेपर का प्रयोग करें। फिल्टर पेपर जल में घुल जाएगा। इससे पंकिल का जल साफ हो जाता है।

प्रश्न 8. रिक्त स्थान भरें:

(क) धान के दानों को डंडियों से अलग करने का तरीका
(ख) कपड़े पर दूध डालने पर मलाई रहती है। पृथक्करण का यह तरीका
(ग) समुद्री जल से नमक प्राप्त करने की प्रक्रिया
(घ) पंकिल जल को पूरी रात एक बाल्टी में रखने से अशुद्धियाँ खत्म हो जाती हैं। इसके बाद शुद्ध जल को ऊपर से निकाल देते हैं। यह पृथक्करण करता है…।

उत्तर: (क) उत्पादन, (ख) नियंदन, (ग) प्रवाह, (घ) निस्तारण

प्रश्न 9. सत्य या झूठ

(क) नियंदन द्वारा दूध और जल के मिश्रण को अलग किया जा सकता है।
(ख) निष्पावन द्वारा नमक और चीनी के मिश्रण को अलग कर सकते हैं (ग) नियंदन द्वारा चाय की पत्तियों को चाय से अलग कर सकते हैं
(घ) निस्तारण प्रक्रिया अनाज और भूसे को अलग कर सकती है।

उत्तर: (क) असत्य; (ख) असत्य; (ग) असत्य;

प्रश्न 10. चीनी और नींबू का रस जल में मिलाकर शिकंजवी बनाया जाता है। शिकंजवी में बर्फ चीनी घोलने से पहले या बाद में बर्फ डालकर इसे ठंडा करना चाहते हो? किस तरह अधिक चीनी घोलना संभव है?

उत्तर: शिकंजवी बनाते समय चीनी पहले डाली जाती है और फिर बर्फ डाली जाती है. ऐसा इसलिए है क्योंकि यदि बर्फ डालने के बाद शिकंजवी ठंडी हो जाएगी, जिससे चीनी कम तापमान पर घुल नहीं पायेगी। यही कारण है कि शिकंजवी बनाते समय चीनी पहले घोलनी चाहिए और फिर बर्फ डालनी चाहिए।

अन्य परीक्षोपयोगी प्रश्न

प्रश्न 1. जल के किसी नमूने से रेत को किस प्रकार अलग कर सकते हैं?

उत्तर: अवसादन प्रक्रिया द्वारा

प्रश्न 2. दूध से मक्खन निकालने की क्या प्रक्रिया है?

उत्तर मंथन प्रक्रिया का

प्रश्न 3. चावल से बारीक रेत के कणों को पक्षक करने के लिए किस प्रक्रिया का उपयोग किया जाता है?

उत्तर: स्वनिर्णय

प्रश्न 4. गेहूं को भूसे से अलग करने के लिए किस प्रक्रिया का उपयोग किया जाता है?

उत्तर: निरपेक्षता

प्रश्न 5. चाय बनाते समय द्रव का उपयोग कैसे किया जाता है?

उत्तर: चुनाव द्वारा

प्रश्न 6. हम पदार्थों को क्यों अलग करते हैं?

उत्तर: हम उपयोगी पदार्थों में से घातक पदार्थों को अलग करते हैं।

प्रश्न 7. पृथक्करण के कौन-से उपाय हैं?

उत्तर में शामिल हैं हस्तचयन, श्रेशिंग, निष्पावन, अवसादन, निस्तारण और चियंदन।

प्रश्न 8. क्या हस्तचयन प्रक्रिया है?

उत्तर: गेहूं, चावल और दालों में मिट्टी के बड़े कणों, पत्थरों और भूसे को हाथ से पृथक् करने के लिए इस विधि का उपयोग किया जाता है।

प्रश्न 9: क्या थ्रेशिंग है?

उत्तर: अनाज से डंडियों को अलग करने का कार्य श्रेशिंग कहलाता है। आजकल श्रेशिंग मशीनों से की जाती है

प्रश्न 10. निष्पावन क्या है?

उत्तर. यह विधि पवनों या वायु के झोंकों द्वारा मिश्रण से भारी और हल्के अवयवों को अलग करने के लिए उपयोग की जाती है। इस प्रक्रिया से किसान हल्के भूसे को भारी अन्न कणों से अलग करते हैं।

प्रश्न 11. क्या चालन विधि है?

उत्तर: इस प्रक्रिया में छननी द्वारा गेहूँ से पत्थर, डंडियां और भूसा निकाला जाता है जो निष्पावन और श्रेशिंग के बाद भी गेहूँ में रह जाते हैं। इसे भी घर बनाते समय रेत से कंकर और पत्थर अलग करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

प्रश्न 12. आटे से अशुद्धियों को निकालने के लिए किस प्रक्रिया का उपयोग किया जाता है?

उत्तर: चालन प्रक्रिया आटे से अशुद्धियों को निकालता है।

प्रश्न 13. चावल और दालों को पकाने से पहले हल्की अशुधियों को किस तरह अलग कर सकते हैं?

उत्तर: हस्तचयन तथा अवसादन प्रक्रिया हल्की अशुद्धियों को अलग करती है।

प्रश्न 14. अवसाद क्या है?

उत्तर: अवसादन एक प्रक्रिया है जिसे जल के मिश्रण से भारी अवयवों के नीचे तली में बैठना कहा जाता है।

प्रश्न 15. निस्तारण क्या है?

उत्तर: अवसादित मिश्रण को मिट्टी के साथ उड़ेलने से अशुद्धियों को निकालने की प्रक्रिया को निस्तारण कहते हैं।

प्रश्न  16. घर पर पनीर छानने का क्या तरीका है?

उत्तर: निस्पंदन विधि घरों में उपयोग की जाती है।

प्रश्न 17. नमक को जल से अलग करने के लिए किस प्रक्रिया का उपयोग किया जाता है?

उत्तर: प्रकट

प्रश्न 18. वाष्पण का क्या अर्थ है?

उत्तर: द्रव को गर्म करके वाष्प बनाने की प्रक्रिया को वाष्पण कहते हैं।

प्रश्न 19. संघनन का क्या अर्थ है?

उत्तर: संघनन शब्द वाष्पों को ठंडा करके द्रव अवस्था में बदलता है। .

प्रश्न 20. निष्पावन प्रक्रिया का विवरण दें।
उत्तर: निष्पावन एक उत्तरी किसान का शब्द है जो किसी ऊँचे स्थान पर खड़ा होकर भूसे और अनाज को अलग करता है। भूसा हल्का होता है, इसलिए वायु के साथ दूर चला जाता है, और अनाज के दाने भारी होते हैं, इसलिए सीधे जमीन पर गिरते हैं।

प्रश्न 21. “हाथों से बीनना” पृथक्करण प्रक्रिया का संक्षिप्त विवरण दें।
उत्तर:  हाथों से बीनना, गेहूँ, चावल, दाल आदि से कंकड़-पत्थर और अवांछनीय पदार्थों को निकालना है। फल और सब्जियों की बिनाई भी इस तरह की जाती है।

प्रश्न 22. श्रेशिंग का एक छोटा सा विवरण दें।
उत्तर: थ्रेशिंग, अन्न कणों से अनाज को अलग करने का प्रक्रिया है। इंडियों को इस प्रक्रिया में पीटकर अन्न कणों को अलग किया जाता है। बैल पहले थ्रेशिंग करते थे। आजकल थ्रेशर मशीनों का इस्तेमाल किया जाता है। धान के अन्न कणों को आज भी हाथों से पीटकर अलग किया जाता है।

प्रश्न 23: चालन विधि बताओ।
उत्तर: मिश्रण के अवयवों को अलग-अलग करने के लिए अलग-अलग प्रकार के छेदों वाली छलनियों का उपयोग किया जाता है। यह चालन विधि है। चालन विधि को आटे से चोकर, काजू कारखानों में काजू, स्वर्णकारों द्वारा अलग-अलग आकारों के मोतियों और किसानों द्वारा अलग-अलग प्रकार के अनाजों में प्रयोग किया जाता है।

प्रश्न 24. किसे अवसादन और निथारना कहते हैं?
उत्तर: रेत या अन्य अविलेय पदार्थों को जल में मिलाकर मिश्रण को एक बर्तन में डालकर थोड़ी देर के लिए रख दो। रेत अवसादन में नीचे बैठ जाएगी। रेत को हिलाने के बजाय दूसरे बर्तन में जल डालना निथारना कहलाता है। इन तरीकों द्वारा ही चावल और दाल को पकाने से पहले जल में घोलकर अलग किया जाता है।

प्रश्न 25. किस मिश्रण के अवयवों को पृथक्करण करने के लिए विधि का चयन करने का मूल्य क्या है?
उत्तर- मिश्रण को अलग करने का तरीका मिश्रण में उपस्थित पदार्थों के गुणों पर निर्भर करता है। इसलिए, मिश्रण के अवयवों को अलग करने की विधि का चयन करते समय, उसे उनके अलग-अलग अवयवों के गुणों की जानकारी मिलनी चाहिए। विभिन्न मिश्रणों के गुण अलग-अलग हैं।

यहाँ पर आपको ncert science class 6 chapter 5 question answer class 6 science chapter 5 question answer Class 6th science chapter 5 padartho ka prithakkaran notes separation of substances class 6 questions and answers pdf कक्षा 6 विज्ञान पाठ 5 प्रश्न उत्तर पदार्थों का पृथक्करण Class 6 Question Answer पदार्थों का पृथक्करण Class 6 PDF पदार्थों का पृथक्करण Class 6 Notes से रिलेटिड प्रश्न उत्तर दिए गए. अगर आपको यह प्रश्न उत्तर अच्छे लगे तो इसे अपने दोस्तों से भी शेयर करें। अगर आपको कोई सवाल या सुझाव है, तो नीचे कमेंट करके हमें बताएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button